विक्रम राही

बेटी गैल्यां धोखा होग्या इब के कह दयूं सरकार तनै
जै गर्भ बीच तै बचा लई तो आग्गे फेर दई मार तनै

लिंगानुपात सुधर गया इसका कारण हम तम जाणै
छोरियां नै वो कर दिखलाया ना मानणिया भी मानै
हर तरफ सुण ली होगी इनकी जय जयकार तनै

राजनीति का एकै फंडा भूना लियो सब क्याहें नै
उस माणस नै गैल्यां करल्यो सदा सदाके तहाए नै
उस ओड़ तै के मतलब ना दिख्खी हाहाकार तनै ।

बेटी बचाण बेटी पढाण का बढ़िया दिया वो नारा था
बच ज्यागी तो पढ भी लेगी किसा ज्यान नै कारा था
रोज रेप हों रोज जलैं के कर लिया राम अवतार तनै

झूठी श्यान नहीं मिटैगी उस दिन तक कोए राह नहीं
बेटी जिवैगी उस दिन जै घमण्ड की हामनै चाह नहीं
विक्रम राही साच्ची कहिए ना तै देंगें लोग नकार तनै

Related Posts

Advertisements