बचपन के दिन-विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’

Related imageबचपन के दिन

बण कै पाळी रोज सबेरे
सिमाणै म्हैं जाया करते।
डांगरां नैं हांक-हांक कै
घास-फूस भरपेट चराया करते।

बैठ खेत के डोळे ऊपर
भजन ईश्वर के गाया करते।
दोपहरी म्हैं जब भूख लागती
शीशम तळै गंठे रोटी खाया करते।

दूसरे के खेत म्हैं बड़ ज्यांदी भैस
झट मोड़ के ल्याया करते।
सच कहूं सूं मैं सुण ले ‘विनोद’
बचपन के वे दिन सबनै भाया करते।

विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’

 

Advertisements

Published by

Prof. Subhash Chander

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र में हिन्दी विभाग में प्रोफेसर के पद पर कार्यरत। जातिवाद, साम्प्रदायिकता, सामाजिक लिंगभेद के खिलाफ तथा सामाजिक सद्भभाव, साम्प्रदायिक सद्भाव, सामाजिक न्याययुक्त समाज निर्माण के लिए निरंतर सक्रिय। साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक सवालों पर पत्र-पत्रिकाओं में लेखन।लेखन, संपादन व अनुवाद की लगभग बीस पुस्तकों का प्रकाशन प्रकाशित पुस्तकेंः साझी संस्कृति; साम्प्रदायिकता; साझी संस्कृति की विरासत; दलित मुक्ति की विरासतः संत रविदास; दलित आन्दोलनःसीमाएं और संभावनाएं; दलित आत्मकथाएंः अनुभव से चिंतन; हरियाणा की कविताःजनवादी स्वर; संपादनः जाति क्यों नहीं जाती?; आंबेडकर से दोस्तीः समता और मुक्ति; हरियणावी लोकधाराः प्रतिनिधि रागनियां; मेरी कलम सेःभगतसिंह; दस्तक 2008 व दस्तक 2009; कृष्ण और उनकी गीताः प्रतिक्रांति की दार्शनिक पुष्टि; उद्भावना पत्रिका ‘हमारा समाज और खाप पंचायतें’ विशेषांक; अनुवादः भारत में साम्प्रदायिकताः इतिहास और अनुभव; आजाद भारत में साम्प्रदायिकता और साम्प्रदायिक दंगे; हरियाणा की राजनीतिः जाति और धन का खेल; छिपने से पहले; रजनीश बेनकाब। विभिन्न सामाजिक-सांस्कृतिक संगठनों से जुड़ाव। संपादक – देस हरियाणा हरियाणा साहित्य अकादमी द्वारा आलोचना क्षेत्र में पुरस्कृत।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.