Advertisements

Category: आधी दुनिया

‘हम नहीं रोनी सूरत वाले’ : सावित्रीबाई फुले की कविताई     

बजरंग बिहारी तिवारी

जीवन की गहरी समझ के साथ काव्य-रचना में प्रवृत्त होने वाली सावित्रीबाई फुले (1831-1897) अपने दो काव्य-संग्रहों के बल पर सृजन के इतिहास में अमर हैं. उनका पहला संग्रह ‘काव्यफुले’ 1854 में तथा दूसरा ‘बावन्नकशी सुबोधरत्नाकर’

मां

 कामरेड पृथ्वी सिंह गोरखपुरिया

पृथ्वीसिंह गोरखपुरिया  सच्चे किसान-मजदूर हितैषी । 1944 में फतेहाबाद जिले में जन्मे। नहला गांव से दसवीं पास करके डी एन कालेज हिसार से स्नातक पास की। हरियाणा छात्र संघ का गठन किया। 1968 में कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय

हरियाणा की राजनीति में महिलाएं – सोनिया सत्या नीता

महिला वोटरों की कम भागीदारी या फिर पुरुषवादी सोच या फिर पार्टियां ही महिला नेत्री को नहीं चाह रहीं मैदान में उतारना क्या है कारण..? हरियाणा प्रदेश में महिलाओं की स्थिति जितनी टीवी सीरियल्स के माध्यम से दिखाई गई उससे

शानदार तोहफा – जोतिबा फुले, सावित्रीबाई फुले और डा. भीम राव अम्बेडकर की संपूर्ण रचनाएं – सत्यशोधक फाऊंडेशन

IMG_0627

पीडीएफ फार्मेट में पढ़ने और डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें

जोतिबा फुले की संपूर्ण रचनाएं


सावित्री बाई फुले संपूर्ण रचनाएं

संपूर्ण रचनाएं मराठी 


बाबा साहेब भीम