Advertisements

Category: साहित्य विमर्श

औपनिवेशक दासता का ज्ञान-काण्ड -कृष्ण कुमार

औपनिवेशक दासता का ज्ञान-काण्ड 

कृष्ण कुमार

भारत लगभग दो सौ साल तक अग्रेंजी साम्राज्य के अधीन रहा। साम्राज्यवाद ने भारत के प्राकृतिक-भौतिक संसाधनों का केवल दोहन ही नहीं किया, बल्कि सांस्कृतिक वर्चस्व कायम करके दिमागों और आत्मा को गुलाम बनाने

मेवाती लोक जीवन की मिठास – डा. माजिद

मेवाती लोक जीवन की मिठास

इत दिल्ली उत आगरा मथुरा सू बैराठ।
   काला पहाड़ की शाळ में बसै मेरी मेवात।।

                इस मेवाती दोहे में मेवात का भौगोलिक फैलाव दिल्ली से लेकर फतेहपुर सीकरी के बीच बताया गया है, जिसमें गुड़गांव,

हरियाणा में पंजाबी भाषा व साहित्य की वस्तुस्थिति

हरियाणा में पंजाबी भाषा व साहित्य की वस्तुस्थिति

डा. कुलदीप सिंह
सहायक प्रोफेसर, पंजाबी विभाग,
कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र

हरियाणा प्रांत तब अस्तित्व में आया, जब एक नवम्बर 1966 को पंजाब को तीन भागों में विभाजित किया गया। इस बंटवारे से

हरियाणा में भाषायी विविधता

हरियाणा में भाषायी विविधता

सुधीर शर्मा

सन् 1986 में जामा मस्जिद क्षेत्र की एक दुकान से मैंने एक पुराना ग्रामोफोन रिकार्ड खरीदा था (जो  मेरे पास अब भी है) गायिका का नाम है महमूदा बेगम। गीत के बोल लिखे हैं,