अकाली लोगों का यह दल विशुद्धिवादियों का एक भारी दल है। गुरुद्वारों में जो बुराइयां घर कर गई हैं, उन्हें दूर करने के लिए बहुत ही बेताब है। सभी गुरुद्वारों में एक ढंग की उपासना हो, उस पर उनका बड़ा