Advertisements
Skip to main content

राजगुरू, सुखदेव व भगत सिंह की शहादत पर –

समसामयिक विचार

(जनता, 13 अप्रैल 1931)
भगतसिंह, सुखदेव और राजगुरू इन तीनों को अन्ततः फांसी पर लटका दिया गया। इन तीनों पर यह आरोप लगाया गया कि उन्होंने सान्डर्स नामक अंग्रेजी अफसर और चमनसिंह नामक सिख पुलिस अधिकारी की लाहौर

डा. ओमप्रकाश ग्रेवाल – जॉर्ज लूकाच

          आलेख


साहित्यिक मसलों की मार्क्सवादी दृष्किोण से व्याख्या करने वाले समर्थ आलोचकों में लूकाच का नाम आता है। किन्तु उनकी कुछ मुख्य स्थापनाओं के बारे में मार्क्सवादी चिन्तकों में काफी मतभेद भी रहा है। साहित्य में आधुनिकतावाद तथा बुर्जुआ आलोचनात्मक