सुशीला बहबलपुर

परिचय

 

Image result for सुशीला बहबलपुर

रचनाएं

क्यों मढ़ देते हो दोष 
शब्दों का खेल
चुप
मां रही है दर्शा तेरी ये दशा
कब तक कैद
खतरनाक
सच कहूं
स्टैण्ड
शायद हां
21वीं सदी में
न रह जाए सीमित
पीड़ा का सन्तोष
अन्त मंथन
आधुनिकता
नए रास्ते

Advertisements